डायरी

अपनी कहानी,  कुछ रुहानी                                 
थोडी रुमानी,  बाकी नफसानी ।

अपनी बातें,  कुछ शिकायतें
थोडी आयतें,  बाकी कुफर् की बातें ।

अपनी ज़िन्दगी,  कुछ बन्दगी
थोडी संजीदगी,  बाकी आवरगी ।

अब तक है बस इतना
चंद लफ्जों में सब सिमटा ।

किसको पता है
कल के माथे
क्या लिखा है ?
कल की तरह
वो कल भी तो पोशीदा है
हम रहे ना रहे
ज़िन्दगी बस जाविदा है ।

 (Hmm…cant get over it ! every thing that m writing, its becoming me, myself n more of me. like this recent post. during school n college days, used to write diary regularly. recently discovered that i still have that old diary. going thru those old pages is always great fun. wondering what all i have done, why n where n how? good, bad, ugly everything. some secrets n some not so secrets. hav tried to put all those pages in this post. )

Advertisements
Published in: on जून 20, 2007 at 4:19 अपराह्न  Comments (10)  

स्थायी पता

कुछ नई दीवारें                                               
एक नई छत
कुछ नई खिड़कीयाँ
उस साइज के नए परदे ।

साथ मे कुछ नए कपड़े
एक जोडी़ नई चप्पल
कुछ नए
कुछ पुराने यार-दोस्त ।

ज़िन्दगी की मियाद यहां बस ग्यारह महीने की
फिर एक नया पता
इस शहर में जब से आया हुँ
“स्थायी पता”  के आगे जगह खाली छोड़ देता हुँ ।

 ( waise abhi abhi naye makaan me shift hua hoon. picchle 41/2 saloon me mumbai me panchwa pata. aur har post ki tarah, isme bhi shayad dheroon spelling mistakes hain. maaf  kare. angrezi keyboard par hindi typing me kabhi ye nahi hota, kabhi woh nahi hota. nukta idhar ki jagah udhar pahunch jata hai. saath hi bahut kuch ab samjah me bhi nahi aata. lambe arse ke baad hindi me likhna shuru kiya hai. warna ab tak to roman ke bharose hi tha. aur hindi me school tak marks to acche hi aate they. phir shayad budha ho raha hoon)

Published in: on जून 14, 2007 at 11:20 पूर्वाह्न  Comments (14)  

सहर

रात को सिरहाने लिए                     
संग चंद नज़्मे और गाने लिए
ज़िन्दगी क्या यूं ही गुज़रेगी
सहर कब तलक मुझसे रुठेगी ।

जिस्म का हर रंग है सुखा
हर रात टुकड़ा-टुकड़ा है बिका
तेरी ज़िन्दगी भी  क्या यूं ही गुज़रेगी
सहर कब तलक तुझसे भी रुठेगी ।

अब बात ना बने तो रहने दो
सहर को कहीं दूर ही बहने दो
रात के संग सपने बुनना तो सिख लेंगे
तसव्वुर मे ही सही, एक नई सुबह लिख लेंगे ।

Published in: on जून 1, 2007 at 3:33 अपराह्न  Comments (12)